झारखंड सड़क की बाधाएं जल्द होंगी दूर, पूर्वी राज्यों से बेहतर होगी कनेक्टिविटी | Jharkhand road barriers will be removed soon, connectivity will be better than eastern states


Samachar

oi-Foziya Khan

|

Google Oneindia News

रांची,21 सितंबरः मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की समीक्षा के बाद पथ निर्माण विभाग के अंतर्गत एनएच की 11 सड़कों का काम रफ्तार पकड़ेगा। दूसरी ओर केंद्र सरकार की एनएचएआई के माध्यम से बनाई जा रही चार और छह लेन के इकोनॉमिक कॉरिडोर के काम में भी तेजी आएगी। इसमें जीटी रोड के अलावा विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्ग में हो रहे निर्माण शामिल हैं। इन सड़कों का काम पूरा होने से पूर्वी राज्यों के बीच आवागमन सुगम होगा। व्यापार को बढ़ावा मिलेगा साथ ही खनिज की ढुलाई आसान हो सकेगी।

ROAD


मुख्यमंत्री ने सभी संबंधित उपायुक्तों को वन विभाग और केंद्र सरकार के अधिकारियों के साथ बेहतर समन्वय स्थापित करते हुये औपचारिकताएं पूरी करने का निर्देश दिया है। उन्होंने भूमि अधिग्रहण के बदले जल्द मुआवजा वितरित करने की हिदायत दी है।

राज्य के अंदर आवागमन सुगम होगा
रांची, बोकारो, जमशेदपुर, धनबाद, रामगढ़ की 11 प्रमुख सड़कों के चौड़ीकरण से आवागमन सुगम होगा। साथ ही जाम से भी निजात मिलेगी। पड़ोसी जिलों से कनेक्टिविटी बेहतर होगी।

महत्वपूर्ण सड़क परियोजनाएं

बोकारो
1. एनएच-23 (बांधडीह) गोपालपुर-तिरो-बेलडीह-भास्की को बहादुरपुर खैराछतर रोड तक चौड़ीकरण और मजबूतीकरण किया जाएगा। इसकी लंबाई: 41.325 किमी है। इसके पूरा किए जाने की निर्धारित तिथि 7 अगस्त 2020 थी, लेकिन अबतक 98% काम पूरा हुआ है। इस मार्ग में 1.825 किमी काम प्रभावित है।
2. बिजुलिया मोड़ चंदाहा-चंद्रमोड वाया सियालजोरी रोड का चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण की लंबाई 13.20 किमी है। इसके पूरा होने की निर्धारित तिथि:- 30 सितंबर 2020 थी, लेकिन अबतक 92% काम पूरा हो चुका है। वर्तमान में 0.70 किमी में काम प्रभावित है।

जमशेदपुर
3. पीताजोरी-गुडाबंधा रोड का चौड़ीकरण, सुदृढ़ीकरण और पुनर्निर्माण की कुल लंबाई 17.150 किमी है। काम पूरा करने की तय तिथि 4 अप्रैल 2019 थी, जिसमें अबतक 96% काम हुआ है। 0.9 किमी काम प्रभावित है।
4. कोवली से डुमरिया 32.80 किमी रोड के पुनर्निर्माण का काम 4 नवंबर 2020 तक पूरा करना था, अबतक 65% काम हुआ है।

धनबाद
5. महुदा-सिंदरी (जमादा) 22.94 किमी सड़क का चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण व पुनर्निर्माण का 32% काम पूरा हो चुका है। यह काम 8 नवंबर 2020 तक पूरा करना था। इसमें मार्ग में 12.94 किमी काम अभी भी प्रभावित है।
6. लोहरबरवा-मयूरनयना-करमहारा एवं मयूरनयना-अमरपुर 27.506 किमी सड़क का निर्माण 28 मई 2019 तक पूरा करना था, लेकिन अबतक इसमें 98% काम हुआ है। 3 पुलों के संपर्क पथ का काम अभी होना शेष है।

रांची
7. सिरमटोली से राजेंद्र चौक-मेकॉन तक 2.34 किलोमीटर फोरलेन फ्लाईओवर का निर्माण होना है। अब इसके लिए फॉरेस्ट क्लीयरेंस की प्रक्रिया चल रही है।

चाईबासा
8. चाईबासा-टोंटो रोम 58.825 किमी सड़क का निर्माण होना है। इस सड़क के लिए 6 फरवरी 2017 को समझौता हुआ था। इस सड़क का 38% काम पूरा हो चुका है। अभी भी 24.785 किमी का काम प्रभावित है।

रामगढ़
9. नया चौक (चितरपुर) एनएच-320-सांडी (एमडीआर-95 पर) और सैंडी से रजरप्पा रोड (एमडीआर-95) पुल निर्माण समेत 10.482 किमी होना है। इसका 75% काम हो चुका है। 1.83 किमी का काम प्रभावित है।

रामगढ़-बोकारो
10. बरलंगा-नेमरा-पीरगुल-कसमार (बहादुरपुर (एनएच 23 पर)-कसमार-खेराचतर से पश्चिम बंगाल सीमा तक) सड़क का चौड़ीकरण/मजबूतीकरण और पुनर्निर्माण 27.608 में होना है। इसकी निर्धारित डीओसी: 24 दिसंबर 2023 है। अबतक 5% काम हुआ है।

गुमला, रांची
11. पालकोट (एनएच -23) रोकोडेगा-बिलिंगबेरा-तमरा सड़क का चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण का काम 38.5 किमी में होना है। इसकी निर्धारित डीओसी 12 अप्रैल 2020 है, लेकिन अबतक 82% काम हुआ है। 7.65 किमी में काम प्रभावित है।

इकोनॉमिक कॉरिडोर से पड़ोसी राज्यों से बेहतर होगी कनेक्टिविटी
इकोनॉमिक कॉरिडोर से झारखंड की अपने पड़ोसी राज्यों से कनेक्टिविटी बेहतर और तीव्र होगी। इससे व्यापार को भी गति मिलेगी। खनिजों की ढुलाई आसान होगी।

कॉरिडोर की प्रमुख सड़कें
1. रायपुर – धनबाद इकोनॉमिक कॉरिडोर, कुल लंबाई-236.30 किलोमीटर
– जैना मोड बोकारो से गोला-32.50 किलोमीटर
– गोला से ओरमाझी 27.8 किलोमीटर
– पलमा-गुमला 63 किलोमीटर
समस्या : फॉरेस्ट क्लीयरेंस, भूमि अधिग्रहण व मुआवजा

2. वाराणसी-रांची इकोनॉमिक कॉरिडोर, कुल लंबाई- 256.63 किलोमीटर
– वडमगंज से खजूरी- 41.06 किमी
– खजूरी से संखा-22.73 किमी
– कुरू से बीजूपाड़ा-21 किमी
– बीजूपाड़ा से पिस्का मोड़-30 किमी
– रांची में फोर लेन एलिवेटेड कॉरिडोर
समस्या : भूमि अधिग्रहण से संबंधित मुआवजा वितरण

3. रांची-पटना इकोनॉमिक कॉरिडोर, कुल लंबाई – 162.87 किमी
– बरही-कोडरमा-27 किमी
समस्या : भूमि अधिग्रहण से संबंधित मुआवजा वितरण

4. रांची-जमशेदपुर इकोनॉमिक कॉरिडोर, कुल लंबाई – 248.64 किमी
– रामपुर से ओरमांझी रांची बाईपास – 26.27 किमी
– चौका से शहरबेरा-16.05 किमी
– जमशेदपुर-महुलिया-44.21 किमी
समस्या : फॉरेस्ट क्लीयरेंस, भूमि अधिग्रहण

5. दिल्ली- कोलकाता नेशनल कॉरिडोर
– चोरदाहा से गोरहर-59 किमी
समस्या : भूमि अधिग्रहण से संबंधित मुआवजा वितरण

6. एनएच-98 पर हरिहरगंज से परवामोड़ सेक्शन- 33.76 किमी
समस्या : फॉरेस्ट क्लीयरेंस, भूमि अधिग्रहण

7. चाईबासा से जयंतगढ़ ओड़िशा इकोनॉमिक कॉरिडोर

8. सिमडेगा-कोलेबिरा-लिट्टीबेड़ा इकोनॉमिक कॉरिडोर

English summary

Jharkhand road barriers will be removed soon, connectivity will be better than eastern states

Story first published: Wednesday, September 21, 2022, 17:46 [IST]



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.