पुतिन ने यूक्रेन को जंग की आग में झोंका! महिलाओं का अपमान हुआ, जेलेंस्की ने कहा, ‘रूस को सजा मिलनी चाहिए’ | Volodymyr Zelenskyy demanded punishment for Russia for the war in Ukraine UN address

जेलेंस्की ने कहा, रूस को सजा मिलनी चाहिए

जेलेंस्की ने कहा, रूस को सजा मिलनी चाहिए

यूक्रेन में 24 फरवरी से युद्ध जारी है। छह महीनों से ज्यादा का वक्त गुजर चुका है लेकिन युद्ध का कोई भी नतीजा नहीं निकला है। वहीं, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने तीन लाख रिजर्व सैनिकों की आंशिक तैनाती का ऐलान कर दिया है और पश्चिमी देशों को परमाणु हमले की धमकी भी दे दी है। इससे अमेरिका, ब्रिटेन समेत अन्य पश्चिमी देश काफी चिंतित नजर आ रहे हैं। ब्रिटेन ने पुतिन की धमकी को हल्के में नहीं लेने को कहा है। वहीं, पुतिन की घोषणा के खिलाफ रूस के कई हिस्सों में भारी प्रदर्शन जारी है। दूसरी तरफ यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने यूएन में यूक्रेन में जंग छेड़ने के लिए रूस को दंडित किए जाने का आह्वान किया है।

रूस ने यूक्रेन में पुरुषों, महिलाओं का अपमान किया

रूस ने यूक्रेन में पुरुषों, महिलाओं का अपमान किया

जेलेंस्की ने यूएन को अपने वीडियो संदेश में कहा कि,’ रूस ने यूक्रेन के खिलाफ एक अपराध किया है और हम मास्को के लिए उचित सजा की मांग करते हैं। रूस हमारे क्षेत्र पर कब्जा जमाने उसे चुराने की कोशिश कर रहा है, इसलिए हम सजा की मांग कर रहे हैं।’ यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने यूक्रेन युद्ध का यूएन में जिक्र करते हुए कहा कि, जंग में हजारों लोगों को रूसी सैनिकों ने मौत के घाट उतार दिया। यूक्रेन के पुरुषों और महिलाओं को अपमानित किया गया, उन्हें यातनाएं दी गईं, उसके लिए रूस को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

रूस के खिलाफ विशेष न्यायाधिकरण बनाए जाने की मांग

रूस के खिलाफ विशेष न्यायाधिकरण बनाए जाने की मांग

जेलेंस्की का विश्व नेताओं को संबोधन रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के मास्को में आंशिक सैन्य लामबंदी के आदेश के बाद आया है। रूस ने यूक्रेन जंग के बीच लगभग 3 लाख रूसी सैनिकों को तैनात करने की योजना बनाई है। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने वीडियो संदेश में आगे कहा कि यूक्रेन के खिलाफ रूसी आक्रामकता के अपराध को देखते हुए उसे दंडित करने के लिए एक विशेष न्यायाधिकरण बनाया जाना चाहिए। रूस ने अब तो जो यूक्रेन को क्षति पहुंचाई है उसके लिए उसकी संपत्ति से भरपाई करनी होगी।

रूस के फरमान से पश्चिम में हलचल तेज

रूस के फरमान से पश्चिम में हलचल तेज

इससे पहले, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने घोषणा की कि उन्होंने यूक्रेन में चल रहे युद्ध के बीच रूस में आंशिक लामबंदी पर एक डिक्री पर हस्ताक्षर किए हैं। पुतिन ने अपने संबोधन में कहा था कि,रूस की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए, मुक्त क्षेत्रों में उनके लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए वह रक्षा मंत्रालय और जनरल स्टाफ के प्रस्ताव का समर्थन करना आवश्यक समझते हैं ताकि आंशिक लामबंदी की जा सके। वहीं, रूस में शामिल होने के लिए जनमत संग्रह 23-27 सितंबर को डोनेट्स्क और लुगांस्क पीपुल्स रिपब्लिक के साथ-साथ पूर्वी यूक्रेन में खेरसॉन और जापोरोजे क्षेत्रों में होगा।

लिज ट्रस ने कहा, हम चैन से नहीं बैठेंगे

लिज ट्रस ने कहा, हम चैन से नहीं बैठेंगे

वहीं पुतिन की धमकी के बीच, ब्रिटिश प्रधान मंत्री लिज़ ट्रस ने संयुक्त राष्ट्र के समक्ष रूस के खिलाफ जीत सुनिश्चित होने तक यूक्रेन को सैन्य सहायता जारी रखने की कसम खाई। ट्रस ने पदभार ग्रहण करने के बाद अपनी पहली यात्रा के दौरान यूएनजीए से कहा, ‘यूक्रेन की जीत तक हम आराम नहीं करेंगे।’कंजर्वेटिव नेता ने यह भी कहा कि यूके 2030 तक अपने सकल घरेलू उत्पाद का 3 प्रतिशत रक्षा पर खर्च करने के लिए प्रतिबद्ध है, जो सीएनए के अनुसार नाटो सदस्यों द्वारा रक्षा खर्च के लिए 2 प्रतिशत की प्रतिबद्धता से काफी अधिक है।

ये भी पढ़ें :'पुतिन के लिए मरने की जरूरत नहीं', रूस में प्रदर्शन कर रहे 100 से ज्यादा लोग हिरासत में लिए गएये भी पढ़ें :’पुतिन के लिए मरने की जरूरत नहीं’, रूस में प्रदर्शन कर रहे 100 से ज्यादा लोग हिरासत में लिए गए

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.