बाल्टिक सागर में 40 मीटर नीचे दुनिया की सबसे लंबी टनल, 2029 से जर्मनी और डेनमार्क के बीच 7 मिनट में होगा सफर | World’s longest tunnel 40 meters under the Baltic Sea Germany and Denmark jouney in 7 minutes by 2029

International

oi-Mukesh Pandey

|

Google Oneindia News

नई दिल्ली, 20 सितंबर। डेनमार्क और जर्मनी के बीच फेहमर्न बेल्ट सुरंग की लंबाई 18 किलोमीटर होगी। ये सुरंग जर्मनी के फेहमर्न द्वीप को डेनमार्क के लोलांड द्वीप से जोड़ेगी। इसके लिए एक भारी भरकम बजट खर्च किया जा रहा है। इस सुरंग के लिए डेनिश कंपनी ने 2016 की कीमतों के आधार पर करीब 7.1 अरब यूरो यानी 8.3 अरब डॉलर खर्च होने का अनुमान लगाया गया था। साल 2015 में टनल को प्रोजेक्ट को डेनमार्क सरकार ने अनुमति दी थी।

Fehmarn Belt Tunnel

बाल्टिक सागर ने 40 मीटर नीचे सुरंग

फेहमर्न बेल्ट सुरंग यूरोप के लिए एक महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के रुप में देखा जा रहा है। ये दुनिया की सबसे लंबी समु्द्र में डूबी हुई सुरंग होगी। जो डेनमार्क और जर्मनी की बीच की दूरियां काम करेगी। शुरूआत में इस प्रोजेक्ट को लेकर डेनमार्क में आपत्तियां भी आईं। जिसके सामाधान के बाद इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो पाया।

2020 में शुरू हुआ निर्माण
फेहमर्न बेल्ट सुरंग के निर्माण से पहले इस प्रोजेक्ट की योजना तैयार करने में करीब 10 साल लगे थे। बाल्टिक सागर में साल 2020 में इस टनल के निर्माण का कार्य शुरू किया गया। अब डेनमार्क में एक अस्थायी बंदरगाह पूरा हो चुका है। डेनिश निर्माण कंपनी फेमर्न ए / एस के सीईओ हेनरिक विन्सेन्ट्सन के अनुसार, साल 2024 की शुरुआत तक टनल की पहली लेन पूरी करने की पूरी तैयारी है। उन्होंने कहा है कि इस साल के अंत या अगले साल की शुरुआत तक टनल की ठक लेन तैयार हो जाएगी।

टनल के निर्माण खर्च होगा भारी बजट
सुरंग 11.1 मील यानी 18 किलोमीटर लंबी होगी। ये यूरोप की सबसे बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में से एक है, जिसके निर्माण में 7 अरब यूरो यानी 7.1 अरब डॉलर से अधिक का बजट खर्च होने वाला है। अगर अन्य टनल की तुलना की जाए तो इंग्लैंड और फ्रांस को जोड़ने वाली 50 किलोमीटर चैनल टनल 1993 में पूरी हुई थी। जिसमें 13.6 मिलियन डालर खर्च किए गए थे। हालांकि ये चैनल फेहमर्नबेल्ट टनल से अधिक लंबा है। लेकिन फेहमर्नबेल्ट टनल समुद्र में बनने से लागत अधिक आ रही है।

'लाल ग्रह' पर भूकंप जैसे झटके! इनसाइट लैंडर से 85 KM दूर बने 3 गड्ढे, साइंटिस्ट्स ने किया दावा‘लाल ग्रह’ पर भूकंप जैसे झटके! इनसाइट लैंडर से 85 KM दूर बने 3 गड्ढे, साइंटिस्ट्स ने किया दावा

English summary

The world’s longest tunnel 40 meters under the Baltic Sea Germany and Denmark jouney in 7 minutes by 2029

Story first published: Tuesday, September 20, 2022, 21:44 [IST]

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.