भारत ने श्रीलंका को दिए 4 बिलियन डॉलर, मदद को लेकर हुए विवाद पर दूतावास ने किया खुलासा | India gave 4 billion USD aid to Sri Lanka this year

भारतीय दूतावास ने किया खुलासा

भारतीय दूतावास ने किया खुलासा

दूतावास ने अन्य द्विपक्षीय और बहुपक्षीय भागीदारों की भी वकालत की। दरअसल, एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि भारत अब श्रीलंका को और अधिक आर्थिक सहायता नहीं देगा। भारतीय दूतावास ने कहा कि हमने प्रासंगिक मीडिया रिपोर्टों को देखा है। हम इस बात पर जोर देना चाहेंगे कि भारत ने श्रीलंका के लोगों के सामने आने वाली कठिनाइयों को दूर करने के लिए इस वर्ष लगभग 4 बिलियन अमरीकी डालर की अभूतपूर्व द्विपक्षीय सहायता प्रदान की है।

श्रीलंका की हर संभव की जाएगी मदद

श्रीलंका की हर संभव की जाएगी मदद

भारतीय दूतावास ने कहा कि हमने IMF और श्रीलंका सरकार के बीच एक कर्मचारी स्तरीय समझौते के निष्कर्ष को भी नोट किया है। IMF के भीतर इसकी आगे की मंजूरी, अन्य बातों के साथ, श्रीलंका की ऋण स्थिरता पर निर्भर है। हम हर संभव तरीके से श्रीलंका का समर्थन करना जारी रखेंगे। विशेष रूप से श्रीलंका के प्रमुख आर्थिक क्षेत्रों में भारत की ओर से लंबी अवधि के निवेश को बढ़ावा देकर इसके जल्द आर्थिक सुधार और विकास के लिए प्रयास करेंगे।

अन्य तरीकों से भी श्रीलंका की मदद

अन्य तरीकों से भी श्रीलंका की मदद

दूतावास ने कहा कि इसके अलावा भी श्रीलंका में हमारी द्विपक्षीय विकास सहयोग परियोजनाएं चल रही हैं, जो कुल मिलाकर लगभग 3.5 बिलियन डॉलर की हैं। श्रीलंकाई छात्र प्रमुख भारतीय संस्थानों में उच्च शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण के लिए छात्रवृत्ति का लाभ उठा रहे हैं। श्रीलंका के साथ हमारे घनिष्ठ और दीर्घकालिक सहयोग के ये पहलू भी श्रीलंका की वर्तमान आर्थिक कठिनाइयों को दूर करने के प्रयासों में योगदान करते हैं।

भारत ने दिए थे 21 हजार टन खाद

भारत ने दिए थे 21 हजार टन खाद

भारत ने 22 अगस्त को भारत ने श्रीलंका को 21 हजार टन उर्वरक सौंपा था। भारत अपनी ‘पड़ोसी पहले’ की नीति के तहत कर्ज में डूबे द्वीप देश की मदद के लिए हमेशा आगे आया है। भारत ने बीते एक दशक में श्रीलंका को 1,850.64 मिलियन अमेरीकी डॉलर की 8 लाइन ऑफ क्रेडिट प्रदान की हैं। भारत ने श्रीलंका को उनकी आर्थिक आवश्यक्ताओं के समय में अधिकतम सहायता प्रदान की है।

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.