रातोंरात बदली गरीब लड़के की किस्मत! दुबई में कार धोने वाले ने जीती 21 करोड़ की लॉटरी | Nepali car washman wins lottery of 21 crores from Mahzooz draw in Dubai

भरत अपने देश के पहले ऐसे विजेता

भरत अपने देश के पहले ऐसे विजेता

नेपाल के रहने वाले 31 वर्षीय भरत दुबई में रोज़ी रोटी के लिए आया था। यहां वो दूसरों की कार साफ करके अपनी किस्मत चमकाने की कोशिश में था। उसने अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर इस लॉटरी का टिकट खरीदा था। लेकिन उसे क्या पता था कि उसकी किस्मत पलटने वाली है। भरत अपने देश के पहले ऐसे विजेता बने हैं, जिन्होंने लॉटरी मे इतनी भारी रकम जीती है। उन्होंने आगे कहा कि वह 27 सितंबर को वापस अपने देश नेपाल लौटेंगे।

भरत के पास नहीं हैं अपना खुद का खाता

भरत के पास नहीं हैं अपना खुद का खाता

भरत तीन साल पहले दुबई जाने से पहले सऊदी अरब में एक पावर प्लांट में काम करते थे। यहां उसे करीब महीने पर 28 हजार रुपए मिलते थे। पुरस्कार विजेता भरत ने कहा कि उनके नाम पर एक बैंक खाता भी नहीं है और उन्होंने जो बड़ी पुरस्कार राशि जीती है वह 345 मिलियन नेपाली रुपये के बराबर है। भरत ने जैकपॉट जीतने के बाद कार धोने की नौकरी छोड़ने की इच्छा जाहिर नहीं की है।

सुधर जाएगी पूरे परिवार का लाइफ

सुधर जाएगी पूरे परिवार का लाइफ

भरत ने बताया कि उसकी जिंदगी बड़ी मुश्किलों में कटती थी। भरत ने बताया कि, मैं पिछले तीन सालों से दुबई में कार धोने का काम कर रहा था। उसके भाई की तबियत बहुत खराब रहती है, उसे ब्रेन ट्यूमर है। वो दिल्ली के अस्पताल में इलाज करा रहा है। उसके पिता भी यहीं रिक्शा चलाते हैं। इन पैसों से वो अपने परिवार वालों की मदद करेगा।

कॉफी के लिए रास्ते में रुका शख्स, बदल गई किस्मत, लगी लॉटरी और बन गया 2 करोड़ का मालिककॉफी के लिए रास्ते में रुका शख्स, बदल गई किस्मत, लगी लॉटरी और बन गया 2 करोड़ का मालिक

केरल के ऑटो वाले की ने जीती थी 25 करोड़ की किस्मत

केरल के ऑटो वाले की ने जीती थी 25 करोड़ की किस्मत

इससे पहले केरल के रहने वाले ऑटोरिक्शा ड्राइवर अनूप ने ओणम के उपलक्ष्य में 25 करोड़ की लॉटरी जीती थी। तिरुवनंतपुरम के श्रीवरहम के रहने वाले अनूप ने शनिवार रात को इस लॉटरी का टिकट खरीदा था, जिसके नतीजे रविवार को घोषित किए गए। टैक्स कटने के बाद अनूप को 15.75 करोड़ रुपए मिलेंगे। 30 साल के अनूप ऑटोरिक्शा चलाने से पहले एक होटल में शेफ के तौर पर काम करते थे और दोबारा चेफ का काम करने के लिए मलेशिया जाने की तैयारी में थे। मलेशिया जाने के लिए उनका बैंक लोन भी सैंक्शन हो गया था।

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.