CM भूपेश बघेल कल करेंगे गोधन न्याय योजना हितग्राहियों को 7 करोड़ का भुगतान | CM Bhupesh Baghel will pay 7 crores to Godhan Nyay Yojana beneficiaries tomorrow

Chhattisgarh

oi-Dhirendra Giri

|

Google Oneindia News


रायपुर,
20
सितंबर।

मुख्यमंत्री
भूपेश
बघेल
21
सितंबर
को
मुख्यमंत्री
निवास
कार्यालय
में
आयोजित
वर्चुअल
कार्यक्रम
के
माध्यम
से
गोधन
न्याय
योजना
के
तहत
पशुपालक
ग्रामीणों,
गौठानों
से
जुड़ी
महिला
समूहों
और
गौठान
समितियों
को
7
करोड़
4
लाख
रूपए
की
राशि
ऑनलाइन
जारी
करेंगे,
जिसमें
1
सितंबर
से
15
सितंबर
तक
गौठानों
में
पशुपालक
ग्रामीणों,
किसानों,
भूमिहीनों
से
क्रय
किए
गए
2.03
लाख
क्विंटल
गोबर
के
एवज
में
4.06
करोड़
रूपए
भुगतान,
गौठान
समितियों
को
1.77
करोड़
और
महिला
समूहों
को
1.21
करोड़
रूपए
की
लाभांश
राशि
शामिल
हैं।

bhupesh

गोधन
न्याय
योजना
के
तहत
राज्य
में
अब
तक
हितग्राहियों
को
335
करोड़
36
लाख
रूपए
का
भुगतान
किया
जा
चुका
है,
जिसमें
18
करोड़
रूपए
की
बोनस
राशि
भी
शामिल
है।
5
सितंबर
को
7.04
करोड़
के
भुगतान
के
बाद
यह
आंकड़ा
352
करोड़
40
लाख
रूपए
हो
जाएगा।

गोधन
न्याय
योजना
के
तहत
छत्तीसगढ़
राज्य
के
गौठानों
में
2
रूपए
किलो
की
दर
से
गोबर
तथा
4
रूपए
लीटर
की
दर
से
गौमूत्र
की
खरीदी
की
जा
रही
है।
गौठानों
में
31
अगस्त
तक
खरीदे
गए
79.12
लाख
क्विंटल
गोबर
के
एवज
में
ग्रामीणों
को
160.94
करोड़
रूपए
का
भुगतान
भी
किया
जा
चुका
है।
21
सितंबर
को
गोबर
विक्रेताओं
को
4.06
करोड़
रूपए
का
भुगतान
होने
के
बाद
यह
आंकड़ा
बढ़कर
165
करोड़
रूपए
हो
जाएगा।
गौठान
समितियों
एवं
महिला
स्व-सहायता
समूहों
को
अब
तक
156.42
करोड़
रूपए
राशि
की
भुगतान
किया
जा
चुका
है।
गौठान
समितियों
तथा
स्व-सहायता
समूह
को
21
सितंबर
को
2.98
करोड़
रूपए
के
भुगतान
के
बाद
यह
आंकड़ा
बढ़कर
159.41
करोड़
रूपए
हो
जाएगा।
स्वावलंबी
गौठानों
द्वारा
अब
तक
19.12
करोड़
रूपए
का
गोबर
स्वयं
की
राशि
से
क्रय
किया
गया
है।
राज्य
के
81
गौठानों
में
गौमूत्र
की
खरीदी
की
जा
रही
है।
अब
तक
गौठानों
में
35
हजार
346
लीटर
क्रय
किए
गए
गौमूत्र
से
16,500
लीटर
कीट
नियंत्रक
ब्रम्हास्त्र
और
वृद्धिवर्धक
जीवामृत
तैयार
किया
गया
है,
जिसमें
से
8400
लीटर
ब्रम्हास्त्र
और
जीवमृत
की
बिक्री
से
3.85
लाख
रूपए
की
आय
हुई
है।

गौठानों
में
महिला
समूहों
द्वारा
17.80
लाख
क्विंटल
वर्मी
कम्पोस्ट
तथा
5.30
लाख
क्विंटल
से
अधिक
सुपर
कम्पोस्ट
एवं
18,924
क्विंटल
सुपर
कम्पोस्ट
प्लस
खाद
का
निर्माण
किया
जा
चुका
है,
जिसे
सोसायटियों
के
माध्यम
से
क्रमशः
10
रूपए,
6
रूपए
तथा
6.50
रूपए
प्रतिकिलो
की
दर
पर
विक्रय
किया
जा
रहा
है।
महिला
समूह
गोबर
से
खाद
के
अलावा
गो-कास्ट,
दीया,
अगरबत्ती,
मूर्तियां
एवं
अन्य
सामग्री
का
निर्माण
एवं
विक्रय
कर
लाभ
अर्जित
कर
रही
हैं।
गौठानों
में
महिला
समूहों
द्वारा
इसके
अलावा
सब्जी
एवं
मशरूम
का
उत्पादन,
मुर्गी,
बकरी,
मछली
पालन
एवं
पशुपालन
के
साथ-साथ
अन्य
आय
मूलक
विभिन्न
गतिविधियों
का
संचालन
किया
जा
रहा
है,
जिससे
महिला
समूहों
को
अब
तक
81.84
करोड़
रूपए
की
आय
हो
चुकी
हैं।
राज्य
में
गौठानों
से
11,187
महिला
स्व-सहायता
समूह
सीधे
जुड़े
हैं,
जिनकी
सदस्य
संख्या
83,874
है।
गौठानों
में
क्रय
गोबर
से
विद्युत
उत्पादन
की
शुरुआत
की
जा
चुकी
है।

राज्य
में
गोधन
के
संरक्षण
और
संर्वधन
के
लिए
गांवों
में
गौठानों
का
निर्माण
तेजी
से
कराया
जा
रहा
है।
गौठानों
में
पशुधन
देख-रेख,
उपचार
एवं
चारे-पानी
का
निःशुल्क
बेहतर
प्रबंध
है।
राज्य
में
अब
तक
10,624
गांवों
में
गौठानों
के
निर्माण
की
स्वीकृति
दी
गई
है,
जिसमें
से
8408
गौठान
निर्मित
एवं
1758
गौठान
निर्माणाधीन
है।
गोधन
न्याय
योजना
से
2
लाख
78
हजार
से
अधिक
ग्रामीण,
पशुपालक
किसान
लाभान्वित
हो
रहे
हैं।
गोबर
बेचकर
अतिरिक्त
आय
अर्जित
करने
वालों
में
46
प्रतिशत
महिलाएं
है।


यह
भी
पढ़ें

Chhattisgarh:
1
नवम्बर
से
शुरू
होगी
समर्थन
मूल्य
पर
धान
खरीदी,CM
भूपेश
बघेल
ने
की
घोषणा

English summary

CM Bhupesh Baghel will pay 7 crores to Godhan Nyay Yojana beneficiaries tomorrow

Story first published: Tuesday, September 20, 2022, 21:25 [IST]

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.