Raju Srivastava Profile: मुंबई में ऑटो चलाया, 50 रुपये में की कॉमेडी, जानें कैसे कॉमेडी किंग बने राजू | Raju Srivastava Profile his life and career all you need to know

असली नाम क्या था?

असली
नाम
क्या
था?

वैसे
बहुत
कम
लोग
ही
जानते
हैं
कि
राजू
श्रीवास्तव
का
असली
नाम
सत्य
प्रकाश
श्रीवास्तव
है।
उनका
जन्म
1963
में
उत्तर
प्रदेश
के
कानपुर
जिले
में
हुआ
था।
उनके
पिता
रमेश
श्रीवास्तव
कवि
थे,
जो
गांव
के
छोटे-छोटे
कार्यक्रमों
में
मिमिक्रियां
करते
थे।
कहा
जाता
है
कि
राजू
को
ये
टैलेंट
अपने
पिता
से
ही
मिला।
जब
वो
बड़े
हुए
तो
उन्होंने
कॉमेडी
की
दुनिया
में
अपना
करियर
बनाने
की
सोची
और
मुंबई

गए।

ऑटो चलाकर किया गुजारा

ऑटो
चलाकर
किया
गुजारा

राजू
श्रीवास्तव
के
लिए
कॉमेडी
की
दुनिया
में
कदम
रखना
आसान
नहीं
था।
जब
वो
मुंबई
आए
तो
उनकी
आर्थिक
हालत
बहुत
ज्यादा
खराब
थी।
घर
से
जो
पैसे
आते
थे,
उसमें
उनका
खर्च
नहीं
चल
पाता
था।
ऐसे
में
उन्होंने
ऑटो
चलाना
शुरू
कर
दिया।
कहते
हैं
कि
ऑटो
चलाते
हुए
उन्हें
पहला
ब्रेक
मिला।
शुरू
में
तो
उन्होंने
सिर्फ
50
रुपये
में
कॉमेडी
की
थी।
हालांकि
बाद
में
वो
करोड़पति
बन
गए।
एक
रिपोर्ट
के
मुताबिक
उनके
पास
20
करोड़
से
ज्यादा
की
संपत्ति
है।

ये थी पहली फिल्म

ये
थी
पहली
फिल्म

1988
में
राजू
के
करियर
में
टर्निंग
प्वाइंट
आया,
जहां
अनिल
कपूर
की
फिल्म
तेजाब
में
उन्हें
छोटा
सा
रोल
मिला।
इसके
बाद
वो
कई
फिल्मों
में
नजर
आए,
लेकिन
सबमें
उनका
रोल
छोटा
ही
था।
उन्होंने
शक्तिमान
और
अदालत
जैसे
मशहूर
टीवी
शोज
में
भी
काम
किया।
साल
2005
उनके
लिए
काफी
खास
रहा,
जहां
उन्होंने
ग्रेट
इंडियन
लाफ्टर
चैलेंज
में
पार्टिसिपेट
किया।
इसके
बाद
वो
गजोधर
नाम
से
इंडस्ट्री
में
छा
गए
और
उनको
धड़ाधड़
नए
प्रोजेक्ट
मिलते
गए।

दाऊद ने दी धमकी

दाऊद
ने
दी
धमकी

2010
में
राजू
श्रीवास्तव
ने
पाकिस्तान
में
छिपे
दाऊद
इब्राहिम
को
लेकर
एक
चुटकुला
सुनाया
था,
जिसके
बाद
उनको
पाकिस्तान
से
धमकी
भरे
कॉल
आने
लगे,
साथ
ही
उनको
डी
कंपनी
के
लोगों
का
मजाक
नहीं
उड़ाने
की
हिदायत
दी
गई।
फोन
करने
वालों
ने
कहा
था
कि
अगर
उन्होंने
दोबारा
ऐसा
किया
तो
उनको
और
उनके
परिवार
को
अंजाम
भुगतना
पड़ेगा।
जिस
पर
राजू
ने
भी
करारा
जवाब
दिया
था।
उन्होंने
कहा
था
कि
अगर
किसी
अपराधी
का
एनकाउंटर
होगा
तो
हम
मौज
लेंगे।
कनपुरिया
हैं,
अपने
दम
पर
बने
हैं,
हम
डरने
और
विचलित
होने
वाले
नहीं
हैं।

राज श्रीवास्तव की बेटी भी हैं 'असली फाइटर', 12 साल की उम्र में ऐसा काम कर जीत चुकी हैं वीरता पुरस्कारराज
श्रीवास्तव
की
बेटी
भी
हैं
‘असली
फाइटर’,
12
साल
की
उम्र
में
ऐसा
काम
कर
जीत
चुकी
हैं
वीरता
पुरस्कार

विवादों में भी रहे?

विवादों
में
भी
रहे?

राजू
श्रीवास्तव
नेताओं
की
बहुत
जबरदस्त
मिमिक्री
करते
थे।
ऐसे
में
जिस
भी
पार्टी
के
नेता
का
वो
मजाक
उड़ाएं,
उसके
कार्यकर्ता
उनसे
नाराज
हो
जाते
थे।
एक
बार
उन्होंने
‘मच्छर
चालीसा’
बना
दी
थी।
जिसके
बाद
हिंदूवादी
संगठन
उनपर
भड़क
गए
और
उनके
खिलाफ
मोर्चा
खोल
दिया।
हालांकि
बाद
में
राजू
श्रीवास्तव
ने
बीजेपी
ज्वाइन
कर
ली
थी।

Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.